आमा ! म त बहुलाएछु

Posted on September 18, 2010 | by चन्द्र घर्ती मगर

– चन्द्र घर्ती मगर आमा ! अचेल मलाई के भैरहेछ !? यो के देख्दैछु !?के सुन्दैछु!? होशमै के के बोलिरहेछु ? आमा ! म त बहुलाएछु ! हेर्दा हेर्दै आँखा […]

Marquee Powered By Know How Media.
Secured By miniOrange